Follow by Email

Wednesday, October 8, 2014

घुटन

किताबें जला कर
कुछ लोग कोशिश करते हैं
आक्रोश जलाने की
अंदर धधकती घुटन से
बाहर आने की
कि कुछ तो है जो परे है
इन किताबों के...
खून में तरबतर
कातिलाना अल्फाजों के
कि कुछ तो है जो
गला रुंधा देता है
बाहर आने की कोशिश में
धुआं धुआं जला देता है
राख में ढूंढते फिरते हैं
वो वज़ूद अपने किरदार का
किताबों को जलाकर
वो बन जाते हैं सिरा अखबार का..!

अर्चना ~ 08-10-2014 

No comments:

Post a Comment