Follow by Email

Saturday, September 12, 2015

जब रात...!

जब रात आँखों में टिमटिमाती है
और मैं बहने लगती हूँ नदी सी
आँखों के संकरे कोनो से
मुझमें डुबकियाँ लगाते चाँद-तारे
थोड़ा और निखर जाते हैं!

~ अर्चना
12-09-2015 

No comments:

Post a Comment